बीकानेर,मुथूट फाइनेंस में लूट का प्रयास करने वाला बदमाश एनएसजी कमांडों को मादक पदार्थों की तस्करी करते हुए पकड़ा गया था। इसके बाद उसको एनएसजी से बर्खास्त कर दिया गया था। वह एनएसजी कमांडों को प्रशिक्षण भी देता था। वह काफी लंबे समय तक प्रशिक्षक के रूप में काम करता रहा। पंजाब के पटियाला के थाना सदर की प्रोफेसर कॉलोनी निवासी रंजीत 09 पैरामिलिट्री फोर्स का जवान था। पैरामिलिट्री फोर्स में तैनाती के दौरान रंजीत का चयन एनएसजी कमांडों के लिए हो गया। उसने पंजाब के मानेसर में एनएसजी कमांडों का प्रशिक्षण लिया और वह कमांडों बन गया।

उसने कई सालों तक प्रशिक्षक के रूप में कार्य किया और वह एनएसजी कमांडों को ट्रेनिंग भी देता था।करीब वह छह साल तक वहां रहा। एनएसजी कमांडों होने के दौरान रंजीत अधिक पैसा कमाने के लालच में मादक पदार्थों की तस्करी करने लगा। वर्ष 2010 में वह मादक पदार्थों की तस्करी करते हुए अंबाला में पकड़ा गया। इसके बाद वह करीब 24 दिन जेल में रहा। जेल से रिहाई होने के बाद उसको एनएसजी से बर्खास्त कर दिया गया। इसके बाद रंजीत बदमाशों के संपर्क में आकर अपराध करने लगा। रंजीत ने पंजाब, दिल्ली, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश व पश्चिमी उत्तर प्रदेश में लूट व डकैती की घटनाओं को अंजाम दिया।

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में रंजीत पर दर्ज है 14 मुकदमें

पुलिस के मुताबिक रंजीत पर पश्चिमी उत्तर प्रदेश में ही करीब 14 मुकदमें लूट व डकैती के दर्ज है। रंजीत बहुत ही शातिर किस्म का बदमाशा है। यह लगातार अपने लोकेशन बदलता रहता था। उसके अलग-अलग राज्यों में 30 से अधिक मुकदमें दर्ज है।

अशोक रहटा बदमाश की गैंग का सदस्य है रंजीत

पुलिस के मुताबिक रंजीत मेरठ के बदमाश अशोक रहटा की गैंग का सदस्य है। एनएसजी कमांडों से बर्खास्त होने के बाद रंजीत अशोक रहटा के संपर्क में आया और उसने पश्चिमी उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, हिमाचल व राजस्थान आदि स्थानों पर लूट व डकैती की घटनाओं को अंजाम दिया।

लूट के बाद मुजफ्फरनगर में आकर रहता था रंजीत

रंजीत पंजाब, राजस्थान, हरियाणा, हिमाचल व राजस्थान में लूट व डकैती की घटनाओं को अंजाम देने के बाद अपने साथी अमजद पुत्र जिलेदीन निवासी हरसौली थाना शाहपुर व सादाब निवासी शेरगढ़ जिला मुजफ्फरनग के यहां आकर रूक जाता था। घटनाओं को अंजाम देने के बाद रंजीत अधिक समय अमजद और सादाब के पास ही बीताता था।

पंजाब पुलिस ने बिजनौर पहुंचकर रंजीत-अमजद से की पूछताछ

मुथूट फाइनेंस में लूट के प्रयास में पकड़े गए आरोपी रंजीत व अमजद से पंजाब पुलिस ने पूछताछ की। रंजीत ने अपने साथियों के साथ मिलकर अमृतसर में दिनदहाड़े एक सर्राफा के घर में डकैती डाली थी। जिसके चलते पंजाब पुलिस बिजनौर आई है और पूछताछ की। बुधवार की सुबह पंजाब पुलिस की पांच सदस्य टीम बिजनौर पहुंची। पंजाब पुलिस पहले कोतवाली नगर गई और उसके बाद जिला अस्पताल में उपचाराधीन बदमाश रंजीत व अमजद से अमृतसर में हुई लूट के बारे में पूछताछ की। पुलिस ने कई घंटों तक दोनों बदमाशों से पूछताछ की। पंजाब के जिला अमृतसर के सिविल लाइन पुलिस चौकी प्रभारी राजेंद्र सिंह व एसआई बूटा सिंह ने बताया कि रंजीत ने अपने पांच साथियों के साथ मिलकर अमृतसर में सर्राफा व्यापारी एसके आरोड़ा के घर 21 मार्च 2021 को दिनदहाड़े डकैती डाली थी। जिसमें बदमाशों ने 700 ग्राम सोना व 50 हजार रुपये की लूट की थी। जिसका मुकदमा अमृतसर में दर्ज है।

बिजनौर पुलिस ने मामले की जानकारी उनको दी, तो वह पांच सदस्य टीम के साथ बिजनौर सर्राफा व्यापारी के घर हुई डकैती की जानकारी जुटाने के लिए बुधवार की सुबह बिजनौर आए और बदमाशों से पूछताछ की। उन्होंने बताया कि जल्द ही कोर्ट से रिमांड मिलने पर बदमाशों को पंजाब लेकर जाया जाएगा। उन्होने बताया कि रंजीत पर पंजाब में कई मुकदमें दर्ज हैं। बताते चलें कि बदमाश रंजीत ने मुथूट फाइनेंस में लूट का प्रयास किया था। भागते समय रंजीत ने फायरिंग की थी, जिसकी दहशत से एक ठेला लगाने वाले की मौत हो गई थी। बिजनौर पुलिस ने मंगलवार को मुठभेड़ के दौरान रंजीत व अमजद को पकड़ा है।