बीकानेर । कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय, भारत सरकार की ओर से देश भर में युवाओं के लिए चल रहे कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रमों से जुड़कर बेरोजगार युवावर्ग बेरोजगारी के इस विकट दौर में आजीविका प्राप्त कर सकते है। ये उद्बोधन जन शिक्षण संस्थान, बीकानेर के अध्यक्ष अविनाश भार्गव ने विश्व युवा कौशल दिवस की छठी वर्षगांठ पर संस्थान सभागार में आयोजित स्किल से समृद्ध भारत -संवाद संवाद कार्यक्रम एवं स्वच्छता पखवाडे़ के प्रथम दिन के कार्यक्रम में उपस्थित युवा प्रशिक्षु समूह के समक्ष अपने अध्यक्षीय उद्बोधन के तहत व्यक्त किए।

श्रीभार्गव ने कहा कि आज के इस कार्यक्रम के माध्यम से मंत्रालय द्वारा देश भर में चल रहे कौशल विकास कार्यक्रमों के बारे में युवा क्या सोचते हैं, ये कार्यक्रम कितने लाभकारी हैं और इन कौशल विकास कार्यक्रमों की बेहतरी के लिए युवाओं के पास क्या सुझाव हैं – इसके बारे में युवाओं की अभिव्यक्ति को मंच दिया जा रहा है। कोरोना में भयानक बेरोजगारी के हालात में कौशल ही एक मात्रा ऐसा साधन है जो देश की आर्थिक स्थिति को मजबूत बना सकता है।

इस अवसर कार्यक्रम के मुख्य अतिथि एवं यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, नगर निगम के प्रबंधक संदीप कुमार ने कहा कि युवाओं की शक्ति को हुनर की दिशा में बढ़ा दिया जाए तो पूरा देश आत्मनिर्भर बन सकता है। इसके साथ ही बैंक किस प्रकार हुनरमंद युवाओं की मदद कर सकता है इस विषय पर श्री संदीप कुमार ने संदर्भ व्यक्तियों एवं प्रशिक्षणार्थियों की सभी शंकाए दूर की।

संस्थान के निदेशक ओमप्रकाश सुथार ने युवा कौशल संवाद कार्यक्रम एवं स्वच्छता पखवाड़े की अवधारणा एवं उद्देश्यों पर प्रकाश डालते हुए कहा कि देश भर में चल रहे कौशल विकास कार्यक्रमों के माध्यम से देश के युवाओं की आत्मनिर्भरता के लिए कौशल प्रशिक्षणों के रूप में मजबूत आधार तैयार करना है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि स्वच्छता पखवाड़े के प्रारंभ अवसर पर हमें स्वच्छता के लिए स्वअनुशाषित होना चाहिए।

संस्थान के कार्यक्रम अधिकारी महेश उपाध्याय ने संभागियों के साथ संवाद स्थापित कर कौशल विकास कार्यक्रमों के प्रति उनकी समझ विकसित की एवं सभी को स्वच्छता शपथ दिलवाई। इसी के साथ आज से आगामी आगामी 15 दिन तक संस्थान के माध्यम से स्वच्छता पखवाड़े के तहत जिले के विभिन्न क्षेत्रों में जागरूकता गतिविधियां करने की जानकारी से भी सबको अवगत कराया।

युवा कौशल संवाद के तहत संस्थान की सफल कहानियों में स ेरोहिणी, मोनिका, स्वाति, राधा, मानसी सांखला आदि ने अपने विचार रखते हुए बताया कि किस प्रकार कौशल प्रशिक्षण प्राप्त करके आज वे स्वरोजगार के माध्यम से अपने परिवार में आर्थिक मदद कर रहे है। साथ ही अपने विचारों में बताया कि कौशल एवं उद्यमिता मंत्रालय द्वारा चलाए जा रहे जन शिक्षण संस्थान, बीकानेर आत्मनिर्भरता के बेहतर विकल्प के रूप में हमारे लिए एक सेतू का काम कर रहा है।

कार्यक्रम सहायक तलत रियाज एवं उमाशंकर आचार्य ने कार्यक्रम का संयोजन करते हुए विश्व युवा कौशल दिवस के अवसर पर कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय भारत सरकार की ओर से नई दिल्ली में आयोजित राष्ट्रीय कार्यक्रम का सोशल मीडिया के विभिन्न माध्यमों से आगंतुकों को कार्यक्रम का सीधा प्रसारण दिखाया। संस्थान के लक्ष्मीनारायण चूरा द्वारा आगंतुकों प्रति धन्यवाद व्यक्त किया गया।

इस कार्यक्रम में संस्थान के संदर्भ व्यक्ति श्रीमती सुनीता गहलोत, रोशन परवीन, मोनिका सांखला, रेशमा वर्मा, मीना तंवर आदि ने भी स्वच्छता जागरूकता के प्रति अपने विचार रखने हुए सक्रिय सहभागिता निभाई।