बीकानेर।   वरिष्ठ अध्यापक संघ (कला शिक्षा ) ने शिक्षा विभाग के 50 वर्ष पुराने नियमो को संसोधन करने पर खुशी जाहिर की है ।

संघ के प्रदेशाध्यक्ष सुभाष जोशी ने बताया कि राजस्थान के मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री ने संघ की वर्षो पुरानी मांग को मानते हुऐ स्नातक और अधिस्नातक एक ही विषय मे होने वाले वरिष्ठ अध्यापक ही अब व्याख्याता बन सकेगें और यह निर्णय राज्य मंत्री परिषद की बैठक के माध्यम से करवा कर राजस्थान के वरिष्ठ कला शिक्षको को राहत प्रदान की है ।

जोशी ने बताया कि कला शिक्षको के साथ राज्य के विद्यालयो मे कक्षा 11 व12 में अध्ययनरत दस लाख विद्यार्थियो को गुणवतायुक्त शिक्षा मिलने की उम्मीद जगने लगी है ।

जोशी ने बताया कि राज्य की सरकारी स्कूलो मे गुणवतायुक्त शिक्षण मिलने से नामांकन मे भी बढोतरी होगी ।

संघ के शिवकुमार व्यास,कन्हैया लाल राठौड,शिवशंकर व्यास और भंवर लाल अचार्य और विमलेश व्यास तथा ममता सिंह ने भी खुशी जाहिर की है ।