बीकानेर: अपने नाम के पर्याय को सिद्ध करने में संलग्न जीवन रक्षा हॉस्पिटल एवं यहाँ के चिकित्सक निरन्तर सफलता के नवीन प्रतिमान स्थापित करते जा रहे हैं और इसी क्रम में डॉ. अशोक कुमार सोखल ने 60 वर्षीय मरीज ,को मूत्र की थैली में कैंसर से निजात दिलवाकर जीवन रक्षा की अपनी प्रतिबद्धता को पुनश्च दोहराया।

60 वर्षीय चेतराम मूत्र की थैली में कैंसर से पीड़ित था एवं कई चिकित्सकों तथा अस्पतालों तक भटकने के बाद भी यथोचित उपचार प्राप्त नहीं कर पा रहा था। चेतराम के उपचार में बाधा यह थी कि ऑपरेशन के पश्चात पेशाब की थैली निकालनी पड़ती जो कि जोखिम भरा काम था। जब यह मरीज बीकानेर के सबसे सफलतम संस्थान जीवन रक्षा हॉस्पिटल में यूरोलॉजी विभाग के प्रमुख डॉ. अशोक कुमार सोखल के पास पहुंचा तो चिकित्सक ने मरीज को पूर्ण स्वास्थ्य लाभ देने के लिए इस ऑपरेशन को सफल अंजाम देने का जोखिम उठाना तय किया।

कुशल एवं पूर्ण प्रशिक्षित चिकित्सकों तथा नर्सिंगकर्मियों की टीम बनाकर चेतराम का ऑपरेशन कर मूत्र की थैली में पनपे कैंसर को जड़ सहित निकाल लिया गया और मरीज की ही आंत से पुनः पेशाब की नई थैली का निर्माण किया गया। इस प्रकार के जोखिम भरे ऑपरेशन को सफलतापूर्वक अंजाम देकर डॉ. अशोक सोखल के नेतृत्व में जीवन रक्षा हॉस्पिटल की टीम ने फिर कामयाबी की इबारत लिख डाली। इस टीम में यूरोलोजिस्ट डॉ. अशोक सोखल के साथ डॉ. रश्मि जैन (एनेस्थेटिस्ट), डॉ. सविता राठी (एनेस्थेटिस्ट), राजू सिंह, हेमाराम, हीरालाल एवं गजेंद्र शामिल थे।

मरीज का यह ऑपरेशन आयुष्मान भारत महात्मा गांधी राजस्थान स्वास्थ्य बीमा योजना के अंतर्गत निशुल्क किया गया। ऑपरेशन के पश्चात मरीज अब पूर्ण रूप से स्वस्थ है तथा हॉस्पिटल से डिस्चार्ज कर उसे सकुशल घर भेज दिया गया है।