बीकानेर; देश-विदेश से लाखों की संख्या में श्रद्धालु प्रतिदिन मंदिर-देवालयों के दर्शनार्थ ब्रज भ्रमण पर आते ही हैं, लेकिन कभी ठाकुरजी स्वयं अपने मंदिर के दर्शनार्थ ब्रज भ्रमण के लिए आएं तो यह बड़ी बात है। ऐसा ही एक नजारा वृंदावन में देखने को मिला। जहां ब्रजभूमि के पड़ोसी राज्य राजस्थान से लड्डू गोपाल (ठाकुरजी) अपने भक्तों के साथ ब्रज भ्रमण पर आए हुए थे।

 

राजस्थान के जिला हनुमान गढ़ी के गांव पल्लू के श्रीश्याम सेवा मित्र मंडल से जुड़े कृष्ण भक्त नंदू सावरिया, कालू राम, राजू, सागर, रामचंद्र, भालाराम, आलोक, राहुल और बबलू अपने आराध्य ठाकुरजी लड्डू गोपाल के श्रीविग्रह को धर्मनगरी के विभिन्न मंदिरों के दर्शन कराने के साथ यमुना स्नान व पंचकोसीय परिक्रमा कराने के लिए आए हुए थे।उन्होंने बताया कि आराध्य लड्डू गोपाल ने सपने में आकर वृंदावन मंदिरों के दर्शन और यमुना स्नान की इच्छा जताई थी। ठाकुरजी की उसी इच्छा को पूरा कराने के लिए वह सभी वृंदावन की धार्मिक यात्रा पर पैदल आए हैं। ठाकुर लड्डू गोपाल के श्रीविग्रह को बच्चा गाड़ी में बैठा कर उन्हें ठाकुर बांके बिहारी मंदिर, राधारमण मंदिर, राधाबल्लभ मंदिर, सेवाकुंज मंदिर, कृष्ण बलराम इस्कॉन मंदिर, प्रेम मंदिर आदि प्रमुख मंदिरों के दर्शन करा रहे हैं। इस दौरान धर्मनगरी में राजस्थान से आए इन कृष्ण भक्तों की टोली अपने आराध्य लड्डू गोपाल के साथ गुजरती है, वहीं अन्य श्रद्धालु उनकी भक्ति भावना को नमन करते नजर आते हैं।