नई दिल्‍ली. राष्‍ट्रीय राजमार्गों (National Highways) के नजदीक के माइक्रो मार्केट में जमीनों की कीमतें काफी तेजी से बढ़ने (Land Prices Hike) की उम्‍मीद की जा रही है. जेएलएल की रिपोर्ट के मुताबिक, बहुत जल्‍द नेशनल हाईवे की नजदीकी जमीनों (Land Near NH) के दाम में 60 से लेकर 80 फीसदी तक का उछाल आएगा. वहीं, लंबी अवधि में कई तरह की सुविधाएं मिलने के बाद फिर इनकी कीमतों में 20 से 25 फीसदी की तेजी आएगी. रिपोर्ट में कहा गया है कि निकट भविष्‍य में इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर डेवलपमेंट (Infr Development) और कनेटिविटी (Connectivity) बढ़ने के कारण एनएच के पास की जमीनों के दाम बढ़ेंगे. इसके बाद राजमार्गों के किनारों पर सुविधाएं बढ़ने के साथ इनके दाम में एक और उछाल आएगा. Snapdragon 870 प्रोसेसर और 108MP कैमरा से होगा लैस नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (NHAI) ने देश के 22 राज्‍यों में 650 संपत्तियों की पहचान की है. एनएचएआई कुल 3,000 हेक्‍टेयर जमीनी पर प्राइवेट सेक्‍टर के साथ मिलकर अगले 5 साल में डेवलपमेंट करेगा. इनमें से 94 साइट्स दिल्‍ली-मुंबई एक्‍सप्रेस-वे पर, 376 निर्माणधीन नए हाईवे या एक्‍सप्रेस-वे पर और करीब 180 साइट्स मौजूदा राजमार्गों पर हैं. जेएलएल के रणनीतिक व मूल्‍यांकन सलाहकार ए. शंकर के मुताबिक, एनएचएआई आने वाले वर्षों में इंडियन हाईवे नेटवर्क के आधुनिकीकरण पर जोर देगा. इनका सीधा फायदा राजमार्गों का इस्‍तेमाल करने वालों, मार्केट प्‍लेयर्स, डेवलपर्स, इंवेस्‍टर्स और फैसिलिटी ऑपरेटर्स को मिलेगा. ने कहा, ‘सभी तथ्‍यों को ध्‍यान में रखकर हमारा आकलन है कि निकट भविष्‍य में एनएच के पास की जमीनों के दाम में 80 फीसदी तक का उछाल आना तय है. वहीं, इसके बाद सुविधाएं बढ़ने पर फिर 25 फीसदी की तेजी आएगी.’ एनएचआई की इन परियोजनाओं में निजी क्षेत्र अगले 5 साल में करीब 4,800 करोड़ रुपये का निवेश करेगा. अनुमान के मुताबिक, इन साइट्स से कम से कम 15 से 30 फीसदी रिटर्न हासिल किया जा सकेगा. स्‍पष्‍ट लैंड टाइटल, प्री-अप्रूव्‍ड साइट्स, लैंड यूज में बदलाव नहीं करने से डेवलपर्स और इंवेस्‍टर्स के लिए ग्रोथ के नए दरवाजे खुल सकेंगे. TAGSराष्‍ट्रीय राजमार्गों के पास जमीन राष्‍ट्रीय राजमार्ग जमीन इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर डेवलपमेंट जेएलएल