राजस्थान में मानसून सक्रिय होने के साथ ही बारिश का दौर शुरू हो गया है। राज्य में उत्तरी राजस्थान के शेखावाटी और अलवर बेल्ट में जमकर बारिश हुई। आकाशीय बिजली का कहर अब भी बना हुआ है। आज भी राज्य में 4 अलग-अलग जगहों पर बिजली गिरने से 4 जनों की मौत हो गई, जबकि एक जगह अन्य स्थान पर बिजली गिरने से 23 पशु मर गए। मौसम विभाग ने 18 जुलाई तक प्रदेश के अलग-अलग इलाकों के लिए यलो अलर्ट जारी किया है, जिसमें भारी बारिश होने के साथ-साथ कहीं-कहीं बिजली गिरने की भी चेतावनी जारी की है।

मौसम विभाग से मिली रिपोर्ट के मुताबिक आज सीकर में 60 MM बारिश हुई। इसी तरह चूरू में 28, झुंझुनूं के पिलानी में 28, जोधपुर में 5 और अजमेर में 4 मिमी बारिश दर्ज हुई है। बारिश होने से इन शहरों में उमस से परेशान लोगों को मामूली राहत मिली। इधर नागौर और चित्तौड़गढ में भी देर शाम तेज बारिश शुरू हो गई। जयपुर की स्थिति देखे तो सुबह से उमस और चिपचिपी गर्मी हो रही है। देर शाम जयपुर शहर में कई जगह काले घने बादल भी छाए, लेकिन बरसे नहीं।

बिजली गिरने से 4 मरे
प्रदेश में आकाशीय बिजली का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा। आज जोधपुर के भोपागढ़ ब्लॉक के देवातड़ा में बिजली गिरने से एक 8 साल की बच्ची की मौत हो गई। वहीं भीलवाड़ा के जाखड़ गांव में बिजली गिरने से भीलों का खेड़ा निवासी एक व्यक्ति मौके पर ही मर गया। बिजली जिस समय गिरी उस समय युवक खेत में अपनी पत्नी के साथ काम कर रहा था, तभी अचानक बिजली गिरी और युवक मौके पर ही मर गया। वहीं युवक की पत्नी भी बिजली गिरने के बाद झुलस गई, जिसे उपचार के लिए हॉस्पिटल भिजवाया गया। इधर चितौड़गढ़ के शंभूपुरा क्षेत्र के सावा में एक महिला और नागौर जिले में नावां के पास नृसिंहपुरा गांव में आकाशीय बिजली गिरने से लड़की की मौत हो गई। दौसा जिले के लवाण में बिजली गिरने से दाे छोटे बच्चे झुलस गए। इधर पाली के तखतगढ़ में मंगलवार देर रात बिजली गिरने से 23 मवेशी मर गए।

अब आगे क्या?
मौसम विभाग ने अब प्रदेश में अगले सप्ताह बारिश होने की संभावना जताई है। मौसम विभाग ने 17 और 18 जुलाई को बीकानेर, हनुमानगढ़, चूरू, गंगानगर, नागौर, जोधपुर, सीकर और झुंझुनूं जिले में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। वहीं 15 व 16 जुलाई को अलवर, भरतपुर, सीकर, कोटा, बारां, बूंदी, जयपुर, बाड़मेर और जालौर जिलों में हल्की बारिश के साथ बिजली गिरने की चेतावनी जारी की है।