बीकानेर, कोरोना महामारी को लेकर ना केवल आमजन बल्कि सरकारी अधिकारी और कर्मचारी भी लापरवाही बरत रहे हैं। सरकारी विभागों के कार्यालयों में न मास्क की अनिवार्यता है नजर आ रही है। और ना ही सोशल डिस्टेंस की पालना आमजन की सेवाओं से जुड़े विभागों में लोग बिना मास्क के ही पहुंच रहे हैं। कार्यालय कक्षों में कर्मचारी ही नहीं अधिकारी भी मास्क और सोशल डिस्टेंस को लेकर कोताही बरत रहे हैं। जिन विभाग का दायित्व कॉविड प्रोटोकॉल की पालना करवाना है उन विभागों के कार्यालय में भी कोविड गाइडलाइन की पालना सुनिश्चित होती नजर नहीं आ रही। आमजन की सेवा में जुड़े विभिन्न सरकारी विभागों में मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग की को लेकर सख्त नजर नहीं आ रही। बड़ी संख्या में लोग संबंधित विभागों के कार्यों और सेवाओं को लेकर इन विभागों में बिना मास्क पहुंच रहे हैं। जिन कार्यालय कक्षा में आमजन से जुड़े कार्य हो रहे हैं वहां सोशल डिस्टेंस नजर नहीं आ रहा। नगर निगम, नगर विकास न्यास, रसद विभाग, कलेक्टर कार्यालय, आदि में मास्क और सोशल डिस्टेंस की पूर्ण पालना होती नजर नहीं आ रही। बिना मास्क पहुंच रहे लोगों को कोई रोकने टोकने वाला भी नजर नहीं आया। विभिन्न सरकारी कार्यालयों में काम कर रहे अधिकारी कर्मचारी मास्क को लेकर लापरवाही बरत रहे हैं इस दौरान अधिकतर कर्मचारी बिना मास्क के नजर आ रहे हैं हालांकि कई अधिकारी मास्क को लेकर गंभीर भी नजर आए अधिकारी तख्तों के बाहर बैठे कई कर्मचारी भी मास्क को लेकर गंभीर नहीं है। वह कोताही बरत रहे है। वही अधीक्षक राजकीय जिला अस्पताल के डॉ, प्रवीण चतुर्वेदी कहना की कोरोना महामारी की तीसरी लाइन लहर की आशंका बनी हुई है मास्क लगाना और सोशल डिस्टेंसिंग की पालना जरूरी है। आने वाले कुछ महीनों महीने कोरोना महत्वपूर्ण है। अभी से बरती गई सुरक्षा और जागरूकता कोरोना रोकथाम में प्रभावी हो सकती है। बिना मास्क घरो से ना निकले कहीं पर मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर कोताही ना बरतें अति आवश्यक होने पर ही भीड़भाड़ वाले स्थानों पर जाएं कोविड प्रोटोकॉल की पालना करें अधिक से अधिक लोग की वैक्सीनेशन जरूर करवाएं यह प्रभावी है।