ऐसे हुई ठगी. राजस्थान में एक आईपीएस अधिकारी के साथ ही ठगी होने का मामला सामने आया है. इस मामले में जब छानबीन की गई तो इसका कनेक्शन झारखंड के जामताड़ा से मिला. चार दिन में ही पुलिस ने साइबर ठगों को पकड़ लिया, लेकिन मुख्य आरोपी अब भी फरार चल रहा है, जिसकी तलाश की जा रही है. दरअसल, राजस्थान के एक आईपीएस अधिकारी के साथ 99 हजार रुपये की ठगी हुई थी. इसके बाद राजस्थान स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप की टीम ठगों का पता लगाते-लगाते झारखंड के जामताड़ा के पिंडारी गांव तक जा पहुंची और चार दिन में ही साइबर ठगों को पकड़ लाई राजस्थान के आईपीएस हिमांशु गर्ग हरियाणा में तैनात हैं. उनके पिता ने ईमेल के जरिए FIR दर्ज करवाई है. हुआ ये कि हिमांशु गर्ग ने जयपुर में मुक्तानंद नगर में अपने पिता को एक पार्सल भेजा था. पार्सल नहीं पहुंचा तो हिमांशु के भाई निमेश ने गूगल पर कुरियर कंपनी को सर्च किया. साइबर ठगों ने इंटरनेट पर कुरियर कंपनी से मिलती-जुलती नकली वेबसाइट बना रखी थी. साइबर ठगों ने पहले 10 रुपये ऑनलाइन मांगे और फिर एक लिंक भेजकर अकाउंट से 99 हजार रुपये निकाल लिए. जानकारी छानबीन करते-करते पुलिस जामताड़ा के आरोपी कलीम अंसारी के घर जा पहुंची, लेकिन वो वहां से भागने में कामयाब रहा. पर उसका साथी आरोपी विकास मंडल पुलिस की पकड़ में आ गया. इस मामले में पुलिस ने दो लोगों को हिरासत में लिया है. राजस्थान पुलिस जब गांव पहुंची तो साइबर ठग अपने घर में बैठकर किसी और को निशाना बना रहे थे मगर पुलिस को देखकर मोबाइल को पानी के टैंक में फेंककर भागने लगे. गांव में उसके घर से 14 लाख रुपये कैश, 8 मोबाइल, 16 सिम कार्ड, 8 एटीएम और लैपटॉप बरामद हुए हैं. फिलहाल झारखंड पुलिस कलीम अंसारी की तलाश कर रही है. राजस्थान आईपीएस अधिकारी के साथ ही ठगी झारखंड जामताड़ा आईपीएस हिमांशु गर्ग RAJASTHAN IPS OFFICER AS WELL AS CHEATING JHARKHAND JAMTARA IPS HIMANSHU GARG