बीकानेर,महाराजा गंगा सिंह विश्वविद्यालय, बीकानेर के शिक्षा संकाय के शिक्षा स्नातक पाठ्यक्रम के क्रियात्मक कार्य के अन्तर्गत श्री जैन आदर्श कन्या शिक्षक प्रशिक्षण महाविद्यालय, नोखा में आयोजित साप्ताहिक आभासी वनशाला शिविर का शुभारम्भ दिनांक 09 अगस्त से हुआ। शिविर का वर्चुअल उद्घाटन डॉ. विजय आचार्य ने किया। उन्होंने अपने उद्बोधन में कहा कि शिविर से प्रशिक्षणार्थियों में चारित्रिक, बौद्धिक, हस्तकला, श्रमशीलता की भावना का विकास होता है तथा प्रशिक्षु सीमित साधनों से असीमित आवश्यकता की पूर्ति करना सीखते हैं। शिविराधिपति एवं कॉलेज प्राचार्य डॉ. राजेन्द्र कुमार श्रीमाली ने कहा कि इस प्रकार के शिविर से प्रशिक्षणार्थियों के मन, वचन और कर्म के साथ भाव एवं भावना को पुष्ट होने में सहायता मिलती है। साथ ही साथ प्रशिक्षणार्थियों का मनोवैज्ञानिक, संवेगात्मक, सामाजिक, सांस्कृतिक, रचनात्मक एवं सृजनात्मक विकास होता है। शिविर के प्रथम दिवस पोस्टर मेकिंग प्रतियोगिता आयोजित की गई जिसमें प्रशिक्षणार्थियों ने *कोविड-19, नशा मुक्ति, कन्या भ्रूण हत्या, पर्यावरण संरक्षण एवं डिजिटल एजुकेशन* विषय की चित्रित अभिव्यक्ति दी। इस प्रतियोगिता में कुल 86 प्रशिक्षणार्थियों ने भाग लिया। निर्णायक मण्डल में व्याख्याता तरुण चौधरी, कौशल कुमार भोजक, उषा जोशी ने प्रशिक्षणार्थी मोनिका भाटी को प्रथम, गंगा जांगू व सरोज मेघवाल को संयुक्त द्वितीय तथा योगिता रामावत व मंजू डागला को संयुक्त तृतीय स्थान प्रदान किया। शिविर प्रभारी भवानी सिंह पंवार ने शिविर की रुपरेखा प्रस्तुत की। कार्यक्रम का तकनीकी संचालन संदीप भाटी ने किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता ईश्वर चन्द बैद ने की। धन्यवाद ज्ञापित किया।