सीकर। सीकर में एक युवक ने ऑनलाइन गेम के चक्कर में अपनी दादी काकत्ल कर दिया। सिंघासन गांव का रहने वाले देवेंद्र सिंह (30) गेम में 3 लाख रुपए हार गया था। वह एक निजी स्कूल में हिंदी का टीचर था। आगे भी गेम खेलने के लिए युवक ने अपने सगे चाचा के घर में चोरी की योजना बनाई। चोरी करते हुए दादी जाग गई तो उसकी हत्या कर दी। घर में लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज भी निकालकर दूर मिट्टी में छुपा दिए। बाद में पुलिस ने बरामद कर लिया है। हत्यारोपी भी गिरफ्तार कर लिया गया है।

 

सबूत मिटाने की कोशिश

 

सीओ ग्रामीण राजेश आर्य ने बताया कि घटना के बाद देवेंद्र सिंह ने सीसीटीवी कैमरे में कैद हुए उसके फुटेज की डीवीआर चुरा ली थी। वह बाइक से 10 किमी दूर कुड़ली गया। एक सूना प्लॉट देखकर उसने डीवीआर को जमीन में गाड़ दिया। पकड़े जाने के डर से उसने डीवीआर को तोड़ने की भी कोशिश की। बाद में उसने उसे गड्ढ़ा खोद कर मिट्टी में दबा दिया। पुलिस ने उस डीवीआर को भी बरामद कर लिया है। हत्यारे को कोर्ट में पेश कर तीन दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया है।

 

4 अगस्त की रात वारदात

 

देवेन्द्र सिंह को मोबाइल पर ऑनलाइन जुआ खेलने की लत लग गई थी। इस गेम में वह इतना घुस गया कि 3 लाख रुपए हारने के बाद वह अपने चाचा के घर में चोरी की योजना बनाई। 4 अगस्त की रात करीब 11 बजे चाचा सुरेन्द्र सिंह के मकान में घुसा। इसी मकान में उसकी दादी रामीकंवर (85) रहती थीं। आवाज सुनकर दादी जागी तो पकड़े जाने के डर से उसको दीवार की तरफ धक्का दे दिया। दीवार के भिड़ने पर दादी लहूलुहान होकर गिर गई। घर की तलाशी में कोई पैसा नहीं मिला।

 

वापस घर आकर सो गया

देवेंद्र सिंह रात को वापस अपने घर जाकर सो गया। घर से आधा किमी दूर रहने वाले एनआरआई सुरेन्द्र के घर के बाहर सीसीटीवी कैमरा लगा हुआ था। दादी के दाह संस्कार कर घर लौटने पर सीसीटीवी देखा तो वहां एक शख्स नजर आया। चेहरा नहीं दिखने पर उस समय तो देवेंद्र को राहत मिल गई, लेकिन वह घबरा गया। मौका देखकर सीसीटीवी की डीवीआर चुरा ले गया। घर से डीवीआर चोरी होने पर घरवालों को कुछ गलत होने का संदेह हुआ। देवेंद्र के पिता ने पुलिस में शिकायत दी।

 

एफएसएल टीम ने सैंपल लिए

 

शव का अंतिम संस्कार होने के कारण पुलिस ने मौके को ही जांच का आधार बनाया। एफएसएल टीम ने मौके की जांच की तो दीवार पर खून के निशान मिले। नमूने उठाकर परिवार के लोगों से ही पहले पूछताछ करना शुरू कर दिया। पूछताछ के दौरान देवेन्द्र टूट गया। इसके बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया।

 

हिंदी का टीचर था

 

देवेन्द्र सिंह बीएससी बीएड तक पढ़ा-लिखा है। वह शादीशुदा है। देवेंद्र कोरोना से पहले तारपुरा के प्राइवेट स्कूल में हिंदी पढ़ाता था। लॉकडाउन के दौरान उसकी नौकरी छूट गई। घर में पड़े रहने पर उसने ऑनलाइन रुपए कमाने का तरीका तलाशा तो गेम खेलने से पैसे मिलने की जानकारी मिली। खेलते-खेलते ऑनलाइन गेम खेलने की लत लग गई। वॉलेट में डालने के लिए पैसों की आवश्यकता थी। उसे पता था कि चाचा के घर में दादी अकेली रहती है। चाचा विदेश से पैसे भेजता होगा। इसलिए उसने दादी के कमरे में चोरी करने की योजना बनाई थी।